0

Yes Bank का लाभ 7% प्रतिशत बढ़कर 1002 करोड़ रूपए पहुँचा

Yes Bank का लाभ चालू वित्त वर्ष 2018 के Oct, Nov or Dec की  में 7% बढ़ा

निजी क्षेत्र के कर्जदाता यस बैंक का शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर, 2018) में 7% फीसद बढ़कर 1,002 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक का शुद्ध लाभ 4,642.6 करोड़ रुपये रहा था।

वहीं 31 दिसंबर 2018 को खत्म हुई तिमाही के दौरान बैंक के नेट प्रॉफिट में 7 फीसद की गिरावट देखने को मिली है। बयान के मुताबिक यस बैंक का नेट प्रॉफिट इन तीन महीनों की अवधि के दौरान 1002 करोड़ रुपये रहा है। वहीं पिछले वर्ष की समान अवधि में यह 1,077 करोड़ रुपये रहा था। विशेषज्ञों ने अनुमान लगाया था कि बैंक दिसंबर तिमाही के दौरान 1,060 करोड़ रुपये का प्रॉफिट दर्ज करेगा।

0

Yes Bank ने चुना अपना नया पार्ट टाइम चेयरमैन : ब्रह्म दत्त

येस बैंक (Yes Bank) ने शनिवार को बताया कि उसने पूर्व आईएएस अधिकारी और अपने निदेशक मंडल के सदस्य ब्रह्म दत्त को अपना  Part Time (अंशकालिक गैर-कार्यकारी) चेयरमैन नियुक्त किया और भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने इसकी मंजूरी दे दी है.

यस बैंक (Yes Bank) ने शनिवार को बताया कि उसने पूर्व आईएएस अधिकारी और अपने निदेशक मंडल के सदस्य ब्रह्म दत्त को अपना अंशकालिक गैर-कार्यकारी चेयरमैन नियुक्त किया और भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने इसकी मंजूरी दे दी है. यह देश में निजी क्षेत्र का चौथा सबसे बड़ा बैंक है. शेयर बाजार को दी गयी जानकारी में यस बैंक ने कहा है, ‘‘भारतीय रिजर्व बैंक ने बैकिंग नियमन कानून-1949 के प्रावधानों के अनुसार और ब्रह्म दत्त के असाधारण अनुभव को देखते हुए उनकी नियुक्ति की अनुमति दे दी है. वह 4 July 2020 तक इस पद पर रहेंगे. ’’दत्त उस दिन 70 वर्ष की आयु पूरी कर लेंगे, लिहाजा वे उसके बाद बैंक के चेयरमैन पद पर नहीं रह सकते।

दत्त, इस बैंक से जुलाई 2013 बैंक में स्वतंत्र निदेशक के तौर पर से शामिल हैं. साथ ही पिछले करीब साढ़े पांच साल में वह निदेशक मंडल की करीब करीब सभी उप-समितियों में रहे हैं. वर्तमान में वह नियुक्ति और वेतनभत्ता समिति के अध्यक्ष हैं. दत्त ने 37 साल की सरकारी सेवा में केंद्र सरकार और कर्नाटक सरकार के अहम विभागों में कार्य किया है. सेवानिवृत्ति के समय वह केंद्रीय सचिवालय और सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय में सचिव थे.

इससे पहले बैंक ने अहम पदों पर नियुक्तियों के बारे में कहा था कि ‘खोजबीन और चयन समिति’ एवं निदेशक मंडल रिजर्व बैंक द्वारा तय समयसीमा के भीतर प्रक्रिया पूरी करने की दिशा में काम कर रहे हैं. बैंक ने कहा है कि नौ जनवरी, 2019 के बाद इस संबंध में रिजर्व बैंक को नाम की सिफारिश की जाएगी.’ सितंबर में आरबीआई ने बैंक के वर्तमान एमडी एवं सीईओ राणा कपूर के कार्यकाल को छोटा करके 31 जनवरी, 2019 तक सीमित कर दिया था. आरबीआई ने बैंक को उत्तराधिकारी ढूंढने को कहा था.

0

Yes Bank ने चुना अपना नया एमडी और सीईओ का नाम

यस बैंक ने संभावित उम्मीदवारों के नाम का खुलासा नहीं किया है, क्योंकि उनका कहना है कि आरबीआई की मंजूरी के बाद ही वो स्टॉक मार्केट को इसकी जानकारी देगें.

यस बैंकने एमडी और सीईओ राणा कपूर के संभावित उत्तराधिकारी का नाम तय कर लिया है, जिसे इस महीने के आखिर तक कार्यभार संभालना है। बैंक ने हालांकि इस पद के लिए शार्टलिस्ट (चुनावी) किए गए उम्मीदवार के नाम का खुलासा नहीं किया है। बैंक ने यह जानकारी शेयर बाजार फाइलिंग के दौरान दी है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने प्राइवेट सेक्टर के इस बैक से कहा था कि वो उस व्यक्ति की तलाश करे जो कि राणा कपूर के बाद बतौर एमडी और सीईओ 31 जनवरी से अपनी सेवाएं देना शुरू कर सकेगा। यस बैंकने बताया, “बैंक के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने बुधवार को अपनी बैठक में उम्मीदवारों का चयन खोज और चयन समिति (एसएंडएससी) और नामांकन एवं पारिश्रमिक समिति (एनआरसी) की सिफारिशों के आधार पर संभावित उम्मीदवारों के नाम तय किए हैं जो कि एमडी एवं सीईओ का पद संभालेंगे।”

बैंक ने आगे बताया कि जैसा कि आरबीआई के नियमों के मुताबिक जरूरी है बैंक का निदेशक मंडल आरबीआई में 10 जनवरी, 2019 को यस बैंकके नए एमडी और सीईओ की नियुक्ति की मंजूरी के लिए आवेदन दाखिल करेगा। हालांकि प्राइवेट सेक्टर के इस बैंक ने संभावित उम्मीदवारों के नाम का खुलासा नहीं किया है क्योंकि उसका कहना है कि आरबीआई की मंजूरी के बाद ही वो Stock Market को इसकी जानकारी देगा। गौरतलब है कि हाल ही में यस बैंक में इस्तीफों का सिलसिला देखा गया जिसमें चेयरमैन अशोक चावला का भी नाम शामिल है।

ये भी पढ़े :