0

Indian Bank ने बढ़ाई सावधि जमा (Fixed Deposite) पर ब्याज दर

Indian Bank ने बढ़ाई सावधि जमा (Fixed Deposite) पर ब्याज दर

सार्वजनिक क्षेत्र के इंडियन बैंक ने घरेलू सावधि जमा ब्याज दरों में संशोघन किया हैं. बैंक द्वारा किया गया यह बदलाव तत्काल रूप से प्रभावी होगा। बैंक ने कहा की वह अपनी घरेलू सावधि जमा ब्याज दरों में 50 से 90 आधार अंको की बढ़ोतरी कर रहा हैं.बैंक ने यह बढ़ोतरी तीन साल से अधिक लेकिन पांच साल से कम, पांच साल और पांच से अधिक वर्षो की अवधि पर एक करोड़ रूपए से कम की राशि के लिए की है.

 

0

Yes Bank का लाभ 7% प्रतिशत बढ़कर 1002 करोड़ रूपए पहुँचा

Yes Bank का लाभ चालू वित्त वर्ष 2018 के Oct, Nov or Dec की  में 7% बढ़ा

निजी क्षेत्र के कर्जदाता यस बैंक का शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर, 2018) में 7% फीसद बढ़कर 1,002 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक का शुद्ध लाभ 4,642.6 करोड़ रुपये रहा था।

वहीं 31 दिसंबर 2018 को खत्म हुई तिमाही के दौरान बैंक के नेट प्रॉफिट में 7 फीसद की गिरावट देखने को मिली है। बयान के मुताबिक यस बैंक का नेट प्रॉफिट इन तीन महीनों की अवधि के दौरान 1002 करोड़ रुपये रहा है। वहीं पिछले वर्ष की समान अवधि में यह 1,077 करोड़ रुपये रहा था। विशेषज्ञों ने अनुमान लगाया था कि बैंक दिसंबर तिमाही के दौरान 1,060 करोड़ रुपये का प्रॉफिट दर्ज करेगा।

0

IDBI बैंक में LIC की हिस्सेदारी 51 फीसद हुआ

आईडीबीआई बैंक को चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में 3,602.49 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था

सार्वजनिक क्षेत्र की भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने वित्तीय संकट के दौर से गुजर रहे आईडीबीआई बैंक में अपनी 51 फीसदी हिस्सेदारी का अधिग्रहण सौदा पूरा कर लिया है। इसके बाद बैंक में एलआईसी की अधिकांश हिस्सेदारी हो गई है।

आईडीबीआई बैंक ने बीएसई फाइलिंग में जानकारी दी, ” यह सौदा आईडीबीआई बैंक और एलआईसी दोनों के लिए अच्छा है। इससे आपसी सहयोग के जरिये दोनों इकाइयों के शेयरधारकों, ग्राहकों और कर्मचारियों के लिए नए अवसर पैदा किये जा सकेंगे।” पिछले वर्ष अगस्त महीने में कैबिनेट ने तरजीही आवंटन और इक्विटी के खुले प्रस्ताव के संयोजन के माध्यम से बैंक में एक प्रमोटर के रूप में जीवन बीमा निगम (LIC) की ओर से नियंत्रण हिस्सेदारी के अधिग्रहण को मंजूरी दे दी थी।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि आईडीबीआई बैंक को चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में 3,602.49 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था। वहीं, बैंक का सकल एनपीए कुल कर्ज का 31.78 फीसद (60,875.49 करोड़ रुपये) रहा, पिछले वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में यह आंकड़ा 24.98 फीसद रहा था।

IDBI Bank

गौरतलब है कि आईडीबीआई बैंक के पास करीब 1.5 करोड़ रिटेल कस्टमर्स हैं और इसके अंतर्गत 18,000 कर्मचारी काम कर रहे हैं। आईडीबीआई बैंक की 800 शाखाओं का इस्तेमाल अब एलआईसी पॉलिसी की बिक्री के लिए बतौर टच प्वाइंट हो सकेगा।

0

HDFC Bank का लाभ 20% प्रतिशत बढ़कर 5586 करोड़ रुपये पहुँचा

HDFC Bank का लाभ चालू वित्त वर्ष 2018 के Oct, Nov or Dec की  में 20.3% बढ़ा 

निजी क्षेत्र के कर्जदाता एचडीएफसी बैंक का शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर, 2018) में 20.3% फीसद बढ़कर 5,585.9 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में एचडीएफसी बैंक का शुद्ध लाभ 4,642.6 करोड़ रुपये रहा था।

लोन लेकर बाइक या कार खरीदने वालों के लिए अच्‍छी खबर, HDFC Bank ने शुरू की दो खास स्‍कीम

बैंक का कहना है कि शुद्ध ब्याज आय में बढ़ोतरी के दम पर बैंक का लाभ बढ़ा है। शनिवार को एक बयान में बैंक ने कहा कि चालू वित्त वर्ष की दिसंबर, 2018 में खत्म तिमाही के दौरान उसकी बैलेंस शीट का आकार 11,86,565 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में बैंक की बैलेंस शीट का आकार 8,49,079 करोड़ रुपये था।

दूसरी तिमाही भी रही थी बेहतरीन: एचडीएफसी बैंक को चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर, 2018) में भी रिकॉर्ड 5,005.73 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा हुआ था। समीक्षाधीन अवधि में एचडीएफसी बैंक की कुल आय में 21.2 फीसद की बड़ी छलांग देखी गई थी। इस दौरान बैंक की कुल आय 28,215.2 करोड़ रुपये पर पहुंच गई।