नेपाल ने आरबीआई को लिखी चिट्ठी, मांगी 100 से बड़े नोटों को अपने यहां चलन में लाने की इजाजत

0
180

अभी तक रिजर्व बैंक ने नेपाल में 100 रुपये और उससे नीचे के नोटों के चलन की अनुमति दे रखी है.

नेपाल ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को पत्र लिखकर कहा है कि वो उनके देश में 100 रुपये से ऊपर के सभी नोटों को जो कि उनके देश में प्रचलन में हैं उन्हें लीगल टेंडर घोषित करें। पत्र में 200, 500 और 2000 के नोटों को नेपाल में कानूनी चलन में लाने के लिए आरबीआइ से अधिसूचना जारी करने का आग्रह किया गया है। अभी तक रिजर्व बैंक ने नेपाल में 100 रुपये और उससे नीचे के नोटों के चलन की अनुमति दे रखी है।

नेपाल राष्ट्र बैंक (NRB) जो कि देश का केंद्रीय मौद्रिक प्राधिकरण है ने आरबीआई को लिखे अपने पत्र में कहा है कि वो उनके देश में 200,500 और 2000 रुपये के भारतीय नोटों को लीगल टेंडर घोषित करे। एनआरबी ने यह भी कहा है कि नेपाल में इन नोटों को कानूनी तौर पर चलन में लाने के लिए में आरबीआइ एक अधिसूचना भी जारी करे।

खास बात यह है कि नवंबर 2016 में 500 और 1,000 के नोटों को बंद करने से पहले आरबीआई ने नेपाली नागरिकों को इस मूल्य के नोटों के रूप में 25,000 रुपये ले जाने की छूट दी थी। नोटबंदी के दौरान 500 और 1,000 के नोटों पर पाबंदी लगने के बाद आरबीआई ने 200, 500 और 2000 के नए नोट जारी किए थे, लेकिन केंद्रीय बैंक ने नेपाल में इन नोटों के चलन के लिए कोई अधिसूचना जारी नहीं की थी, जिसके चलते पड़ोसी देश में इनका उपयोग अवैध हो गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here