0

एसबीआई के ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी Home Loan हुआ सस्ता

सबसे काम चार्ज है एसबीआई का MD पी.के. गुप्ता -

SBI ने एक बार फिर अपने ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी लेकर आ चूका है,

सबसे काम चार्ज है एसबीआई का MD पी.के. गुप्ता -

 

एसबीआई एक बार फिर अपने ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी लेकर आ चूका है, जिसमे 30 लाख तक के होम लोन की ब्याज दरो को घटा दिया गया है, और माना जा रहा है की और भी बैंक सस्ता करेंगे ब्याज दर।

सबसे पहला बैंक बना एसबीआई

बैंक ने कहा, ‘रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति की घोषणा के तुरंत पश्चात हम सबसे पहले बैंक हैं जिसने 30 लाख रुपए तक के होम लोन पर ब्याज घटाया है.’ बैंक ने कहा है कि उसने कम और मध्यम आयवर्ग के लोगों के फायदे को ध्यान में रख कर यह निर्णय किया है. भारतीय रिजर्व बैंक ने गुरुवार को चालू वित्त वर्ष की अंतिम द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा में रेपो दर को 0.25 प्रतिशत घटा कर 6.25 प्रतिशत कर दिया है. इसके बाद से माना जा रहा है कि वाणिज्यिक बैंक भी अपने कर्ज को सस्ता करेंगे.

ग्राहकों का हित सबसे आगे

एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा कि देश के सबसे बड़े बैंक के नाते हम हमेशा ग्राहकों के हित को सबसे आगे रखते हैं. उन्होंने कहा, ‘‘होम लोन बाजार में एसबीआई की हिस्सेदारी सबसे ज्यादा है. ऐसे में यह उचित होगा कि हम केंद्रीय बैंक द्वारा दरों में कटौती का लाभ एक बड़े निम्न और मध्यम आय वर्ग को उपलब्ध कराएं.’’ सार्वजनिक क्षेत्र का एसबीआई संपत्ति, जमा, शाखा, ग्राहक और कर्मचारियों की संख्या के लिहाज से देश का सबसे बड़ा बैंक है।

0

RBI ने UCO Bank पर लगाया 2 करोड़ का जुर्माना

RBI ने UCO Bank पर धोखाधड़ी रोकने तथा जोखिम प्रबंधन से संबंधित दिशानिर्देशों का उलंग्घन करने को लेकर जुर्माना लगाया 

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने यूको बैंक पर धोखाधड़ी रोकने तथा जोखिम प्रबंधन से संबंधित दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने को लेकर दो करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है. बैंक ने मंगलवार को एक नियामकीय फाइलिंग में कहा, “हमें बताया गया है कि आरबीआई ने धोखाधड़ी रोकने तथा जोखिम प्रबंधन से संबंधित दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने के लिए दो करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है.”

सितंबर तिमाही में यूको बैंक को हुआ था 1136.44 करोड़ का घटा गौरतलब है कि यूको बैंक ने सितंबर 2018 में खत्म हुई तिमाही में 1,136.44 करोड़ रुपये का नुकसान दर्ज किया था, जबकि एक साल पहले की समान अवधि में बैंक को 622.56 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था. यह घाटा बैंक के फंसे हुए कर्जो की भरपाई के लिए प्रावधान करने से हुआ है.

0

PNB Bank का लाभ तीसरी तिमाही में 7.12 प्रतिशत बढ़ा

http://www.sabkuchhsikho.com/sbi-sell-3-npa-account-recover-2111-crore-loan-html/

PNB Bank का लाभ चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में 7.12 प्रतिशत बढ़कर 246.51 करोड़ रुपये हुआ 

http://www.sabkuchhsikho.com/sbi-sell-3-npa-account-recover-2111-crore-loan-html/

देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले में फंसे पंजाब नेशनल बैंक ने नया इतिहास रच दिया है. दरअसल, नीरव मोदी-मेहुल चोकसी की वजह से हुए घाटे से बैंक ने खुद उबार लिया है. अपने पिछले घाटे के रिकॉर्ड से निकलकर पीएनबी ने अब मुनाफा घोषित किया है. दिसंबर, 2018 में खत्म हुई तिमाही में पंजाब नेशनल बैंक ने 7 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की है. पीएनबी को तीसरी तिमाही में 246.5 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ है. वहीं, एक साल पहले समान तिमाही के दौरान यह आंकड़ा 230 करोड़ रुपए रहा था. आपको बता दें, पीएनबी लगातार तीन तिमाही में लगातार घाटा सहने के बाद मुनाफे में लौटा है.

सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब नेशनल बैंक (PNB) का शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में 7.12 प्रतिशत बढ़कर 246.51 करोड़ रुपये हो गया. इससे पिछले वित्त वर्ष इसी अवधि में बैंक को 230.11 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था. स्‍टॉक एक्‍सचेंज को दी गई जानकारी में बैंक ने बताया कि समीक्षाधीन अवधि में उसकी कुल आय 2.46 प्रतिशत घटकर 14,854.24 करोड़ रुपये रही जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 15,257.5 करोड़ रुपये रही थी. उल्लेखनीय है कि पीएनबी 14,356 करोड़ रुपये के नीरव मोदी, मेहुल चोकसी धोखाधड़ी मामले का शिकार हुआ है.

0

IDBI Bank का नाम हो सकता है, LIC Bank

IDBI Bank के निदेशक मंडल ने बैंक का नाम बदलने का किया प्रस्ताव है। नहीं रहा आईडीबीआई

एलआईसी द्वारा आईडीबीआई बैंक का अधिग्रहण करने के बाद आईडीबीआई बैंक के बोर्ड ने बैंक का नाम बदलकर एलआईसी ने आईडीबीआई बैंक को एलआईसी बैंक रखने का प्रस्ताव रखा है। पिछले महीने एलआईसी ने आईडीबीआई बैंक की 51 – फीसदी हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया था।

एलआईसी ने ऐसा क्यू किया। 

बिमा कम्पनी ने यह कदम अपना कारोबार बैंकिंग छेत्र में सुरु करने के उद्देस्य से किया था।  बैंक के बोर्डने सोमवार को बैठक मेंआईडीबीआई बैंक का बलदे के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

0

RBI बोर्ड की बैठक टली अब 9 फ़रवरी को

7 फ़रवरी को होने वाली RBI बोर्ड की बैठक अब 9 फ़रवरी को होगी।

नई दिल्ली। वित्त मंत्री पीयूष गोयल अंतरिम बजट के बाद अब 9 फ़रवरी को आरबीआई के केंद्रीय बोर्ड की बैठक को संबोधित करेंगे। छटी मौद्रिक निति के दो दिन बाद होने वाली इस बैठक में गोयल अंतरिम बजट के मुख्य बिंदुओं को रेखांकित करेंगे। सूत्रों के मुताबिक, इसमें चालू वित्त वर्ष के लिए अंतरिम लाभांश के सरकार के अनुरोध पर भी विचार किया जाएगा। केंद्रीय बैंक की पहली छमाही की स्थिति के आधार पर सरकार को चालू वित्त वर्ष में आरबीआई से 28,000 करोड़ रूपए अंतरिम लाभांश मिलने की उम्मीद है। केंद्रीय बैंक चालू वित्त वर्ष के लिए 40,000 करोड़ रुपये के लाभांश का भुगतान कर चूका हैं।

नए आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास की पहली समीक्षा बैठक 

बीते दिसंबर में आरबीआई के नए गवर्नर के रूप में शक्तिकांत दास ने इस पद को संभाला, उनके लिए यह पहली मौद्रिक समीक्षा होगी।

0

किसानो के लिए RBI लेगा बड़ा फैसला आसानी से लोन दे सकेंगे सभी बैंक

7 फरवरी को होंनें वाली बैठक में किसानों को लेकर ज्यादा बात चित होगी जिससे किसानों को आसानी से मिल पायेगा लोन 

भारतीय रिजर्व बैंक RBI बाजार में नकदी उपलब्धता बढ़ाने के लिए फरवरी में खुले बाजार हस्तक्षेप के जरिये 37,500 करोड़ रुपये डालेगा. इसके लिए वह सरकारी प्रतिभूतियों की खरीद करेगा. रिजर्व बैंक ने एक बयान में कहा कि वह व्यवस्था में तरलता की स्थिति पर नजर रखे हुये है. RBI की ओर से सिस्टम में पैसे डाले जाने से बैंकों के लिए लोन देना आसान होगा. वहीं आम लोगों को भी आसानी से लोन मिल सकेगा.

सरकारी प्रतिभूतियों को खरीदेगा केंद्रीय बैंक

केंद्रीय बैंक ने कहा है, ‘‘बैंक ने खुले बाजार में हस्तक्षेप की नीति (ओएमओ) के तहत सरकारी प्रतिभूतियों की खरीद करने का निर्णय किया है. इस खरीद के लिए फरवरी माह में बैंक कुल 375 अरब रुपये खर्च करेगा. बैंक फरवरी के दूसरे, तीसरे और चौथे सप्ताह में तीन बार की नीलामी में प्रत्येक बार 125 अरब रुपये की खरीद करेगा.’’ RBI ने बताया कि फरवरी के पहले सप्ताह में कोई नीलामी नहीं होगी क्योंकि उस हफ्ते में मौद्रिक नीति समिति की बैठक होनी है. बैंक ने कहा कि नीलामी तिथियों की घोषणा समय-समय पर करेगा.

कई बैंकों को मिल सकती है राहत

कई सरकारी बैंक जो रिजर्व बैंक की पाबंदियों की वजह से लोन नहीं बांट पा रहे हैं, उन्हें अगले महीने तक राहत मिल सकती है. ज़ी बिज़नेस को रिजर्व बैंक के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 31 जनवरी को रिज़र्व बैंक के बोर्ड ऑफ Financial Supervision की बैठक में इस पर फैसला लिया जाएगा. सूत्रों की मानें तो जिन बैंकों के डूबे कर्ज़ों में कमी आई है, पूंजी की स्थिति अच्छी है और वित्तीय स्थिति बेहतर हो रही है. ऐसे बैंकों को प्रॉम्ट करेक्टिव एक्शन (PCA) से जल्द राहत दी जाएगी. प्रॉम्ट करेक्टिव एक्शन से बैंकों की सेहत और न बिगड़े इसलिए लोन बांटने और गैर जरूरी खर्चों पर रोक लग जाती है. सूत्रों की मानें तो शुरू में 3-4 बैंकों को इसके दायरे से बाहर लाया जा सकता है. इसका औपचारिक एलान 15 फरवरी के आसपास हो सकता है. दरअसल 9 फरवरी को रिज़र्व बैंक के सेंट्रल बोर्ड की दिल्ली में बैठक होगी, जिसकी अध्यक्षता वित्त मंत्री करेंगे. मुमकिन है कि सेंट्रल बोर्ड की हरी झंडी मिलने या फिर उसके पहले भी बैंकों के लिए इस राहत का एलान कर दिया जाए.

0

Yes Bank का लाभ 7% प्रतिशत बढ़कर 1002 करोड़ रूपए पहुँचा

Yes Bank का लाभ चालू वित्त वर्ष 2018 के Oct, Nov or Dec की  में 7% बढ़ा

निजी क्षेत्र के कर्जदाता यस बैंक का शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर, 2018) में 7% फीसद बढ़कर 1,002 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक का शुद्ध लाभ 4,642.6 करोड़ रुपये रहा था।

वहीं 31 दिसंबर 2018 को खत्म हुई तिमाही के दौरान बैंक के नेट प्रॉफिट में 7 फीसद की गिरावट देखने को मिली है। बयान के मुताबिक यस बैंक का नेट प्रॉफिट इन तीन महीनों की अवधि के दौरान 1002 करोड़ रुपये रहा है। वहीं पिछले वर्ष की समान अवधि में यह 1,077 करोड़ रुपये रहा था। विशेषज्ञों ने अनुमान लगाया था कि बैंक दिसंबर तिमाही के दौरान 1,060 करोड़ रुपये का प्रॉफिट दर्ज करेगा।

0

IDBI बैंक में LIC की हिस्सेदारी 51 फीसद हुआ

आईडीबीआई बैंक को चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में 3,602.49 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था

सार्वजनिक क्षेत्र की भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने वित्तीय संकट के दौर से गुजर रहे आईडीबीआई बैंक में अपनी 51 फीसदी हिस्सेदारी का अधिग्रहण सौदा पूरा कर लिया है। इसके बाद बैंक में एलआईसी की अधिकांश हिस्सेदारी हो गई है।

आईडीबीआई बैंक ने बीएसई फाइलिंग में जानकारी दी, ” यह सौदा आईडीबीआई बैंक और एलआईसी दोनों के लिए अच्छा है। इससे आपसी सहयोग के जरिये दोनों इकाइयों के शेयरधारकों, ग्राहकों और कर्मचारियों के लिए नए अवसर पैदा किये जा सकेंगे।” पिछले वर्ष अगस्त महीने में कैबिनेट ने तरजीही आवंटन और इक्विटी के खुले प्रस्ताव के संयोजन के माध्यम से बैंक में एक प्रमोटर के रूप में जीवन बीमा निगम (LIC) की ओर से नियंत्रण हिस्सेदारी के अधिग्रहण को मंजूरी दे दी थी।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि आईडीबीआई बैंक को चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में 3,602.49 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था। वहीं, बैंक का सकल एनपीए कुल कर्ज का 31.78 फीसद (60,875.49 करोड़ रुपये) रहा, पिछले वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में यह आंकड़ा 24.98 फीसद रहा था।

IDBI Bank

गौरतलब है कि आईडीबीआई बैंक के पास करीब 1.5 करोड़ रिटेल कस्टमर्स हैं और इसके अंतर्गत 18,000 कर्मचारी काम कर रहे हैं। आईडीबीआई बैंक की 800 शाखाओं का इस्तेमाल अब एलआईसी पॉलिसी की बिक्री के लिए बतौर टच प्वाइंट हो सकेगा।

0

Kotak Mahindra Bank का लाभ 23% प्रतिशत बढ़कर 1291 करोड़ रुपय पहुँचा

Kotak Mahindra Bank का लाभ चालू वित्त वर्ष 2018 के Oct, Nov or Dec की  में 23% बढ़ा

निजी क्षेत्र के प्रमुख बैंक कोटक महिंद्रा बैंक लिमिटेड ने तीसरी तिमाही में अनुमान से बेहतर 22.6 फीसद का मुनाफा दर्ज किया है। उच्च ब्याज आय और बाजार में होने वाले नुकसान के लिए प्रावधानों की वापसी से बैंक को ऐसे प्रदर्शन में मदद मिली है। गौरतलब है कि मार्केट कैप के लिहाज से कोटक महिंद्रा भारत का पांचवां बड़ा बैंक है।

लोन लेकर बाइक या कार खरीदने वालों के लिए अच्‍छी खबर, HDFC Bank ने शुरू की दो खास स्‍कीम

 

मुंबई के निजी क्षेत्र के प्रमुख बैंक का नेट प्रॉफिट 31 दिसंबर को खत्म तिमाही के लिए 12.91 बिलियन रुपये (1291 करोड़ रुपये) रहा, जबकि बीते वित्त वर्ष की समान अवधि में बैंक को 10.53 बिलियन रुपये (1053 करोड़ रुपये) का मुनाफा हुआ था।

इस तिमाही के दौरान बैंक का अर्जित ब्याज 25 फीसद के इजाफे के साथ 62.50 बिलियन रुपये के स्तर पर पहुंच गया, जबकि बैंक का नेट इंटरेस्ट मार्जिन- जो अर्जित ब्याज और उसके भुगतान के बीच का अंतर होता है 4.33 फीसद पर आ गया जो कि बीते वर्ष की समान अवधि में 4.27 फीसद रहा था।